आवाज निर्भीक कब होगी? 

​शोर शराबा बहुत है हटाओ
सच की तस्दीक कब होगी ?
निजाम तो आएंगे जाएंगे,
यह आवाज निर्भीक कब होगी?

कहीं प्रदर्शनी, कहीं परदा! काने हो गए हो क्या?
सच बतलाओ तुम्हारी आँख ठीक कब होगी?

इतना अंधेरा, रौशनदानों पर भी चट्टान रख दिए हैं?
वस्तुविद् बोल! यह नक्काशी बारीक कब होगी ?

भीड़ भड़की ,सड़क पर गिरी है लाश सभ्यता की
जनतंत्र जननी! इंसानियत की तहरीक कब होगी ?

तेरी मिट्टी तनिक लाल तो थी,खून से नहीं खेलती थी
बहुत दूर हो गई है बापू,न जाने नज़दीक कब होगी?

पुनश्च: आपातकाल की घोषणा के 42 वर्ष हो गए, पत्रकारिता में जो ज़हर तब घोला गया था वह आज भी रह रहकर सामने आता है, खासकर समाचार चैनलों की स्थिति बड़ी दयनीय है। खबर और सनसनी के नाम पर जब सोशल मीडिया के चुटकुले मुख्यधारा के तकिया कलाम बन जाएँ तो एक सजग राष्ट्र को जागरूक होना ही होगा ।

Advertisements

इतनी भीड़ क्यों है! itni bheed kyon hai? 

जन मन को जकड़ती जंजीर क्यों है
तुम्हारे मुहल्ले में इतनी भीड़ क्यों है?

बुन लिए हैं जाल सड़कों के शहर ने
पुल के नीचे अब भी किसीका नीड़ क्यों है?
बैठे हैं पुरोधा उस पार ,’आजादी’ के
इस पार बेड़ियों में बंधी तकदीर क्यों है?

भेद तो नहीं करती कूँची कलाकार की
फिर चित्रपट पर अधूरी तस्वीर क्यों है?

तीर तक तो आती ही रहती है दूब लहर चढ़कर
यह आत्माभिमान सत्ता की तासीर क्यों है?
लगाया था जोर बराबर का, हमने भी तुमने भी
फिर राष्ट्रवाद तुम्हारे बाप की जागीर क्यों है?