नदारद

थोड़ी पुरानी रचना है पर शायद अब भी सार्थक है. 15 अगस्त 1947- बापू लाल किले पर ध्वजारोहण नही कर रहे थे,दंगों से प्रभावित इलाकों में भारत के मूल्यों की रक्षा में लगे हुए थे. क्या आज सत्तर वर्ष बाद भी वे आदर्श सुरक्षित हैं?

नदारद!

नहीं पालता शिकवे-गिले पर
उस भोर गाँधी नहीं थे लाल किले पर।

गरजें गोले काश्मीरी रस्तों पर
बरछे बरसे दलितों के दस्तों पर
हाँ, हाँ आजादी कि गूँज सुनो
चिपका लो तिरंगे अपने अपने बस्तों पर
लेकिन याद रहे ,आजादी के तो फूल खिले पर,
उस भोर गाँधी नहीं थे लाल किले पर ।

जलसे जमे माँ के नारों पर
बंधे बेड़ियाँ उन्मुक्त विचारों पर
करो!करो! करो! तुम कुठाराघात
जन जन के अधिकारों पर
लो चढ गए हम शौर्य के टीले पर,
उस भोर गाँधी नहीं थे लाल किले पर ।

नाराज हो समाज पर
बाज की नजर ताज पर
मत झुक इतना, हे स्वतंत्र!
राज की आवाज पर,

नाज कर स्वराज पर
अब नहीं अकाज कर
मैं खड़ा पास ही
आज ही आगाज कर

मैं भारत हूँ ,नहीं पालता शिकवे-गिले पर,
उस भोर गाँधी नहीं थे लाल किले पर ।।

– वैभव

Advertisements

Author: Vaibhaw verma

student at IIT DELHI, a poet and a keen political enthusiast, free from the ideological barriers of the left or the right.

72 thoughts on “नदारद”

  1. सुंदर कृति। पढ़कर आनंदित हुआ। धन्यवाद रचना के लिए। ऐसे ही सुंदर रचना लिखते रहे हमारे लिए Vaibhaw ji

    Liked by 2 people

  2. Wow!After reading your poem ,I have become your fan 🤗. Autograph please.Love it ❤.Thanks for following my blog.Amazing collection of poems .I would like to nominate you for Blue Tag Award.

    Liked by 1 person

  3. ना जाने कौनसी, दौलत हैं..!
    कुछ दोस्तों के ,लफ़्जों में..!

    बात करते है तो.!
    दिल ही खरीद लेते हैं ..!

    —- एक “नदारद” चाहनेवाला

    Liked by 1 person

      1. अवश्य
        कुछ लोगों को शिकायत होती है कि
        गुलाब में कांटे होते हैं,
        मैं शुक्रगुज़ार हूं कि कांटों को गुलाब
        का साथ मिला है…..

        Liked by 1 person

      2. गजब की जिंदगी होती है शायरी लिखना….. खुद के खंजर से खुद की खुदाई करना ….

        Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s